जादू की पुड़‍िया में आपका स्‍वागत है। चूंकि यहां जादू के बारे में ख़बरें 'कभी-भी' और 'कितनी भी' आ सकती हैं। और हो सकता है कि आप बार-बार ब्‍लॉग पर ना आ सकें। ऐसे में जादू की ख़बरें हासिल करने के लिए ई-मेल सदस्‍यता की मदद लें। ताकि 'बुलेटिन' मेल-बॉक्‍स पर ही आप तक पहुंच सके।

Wednesday, March 30, 2011

आज का पेपर

आज जादू दोपहर तक पापा के साथ है।

शरारतों से पूरा घर सिर पर ले रखा है जादू ने।

अभी-अभी आज का अख़बार किचन की 'सिंक' में फेंक आया है।

अरे भई 'भारत-पाक' सेमीफायनल के दिन

पेपर का क्‍या काम।

सही तो किया जादू ने।

2 comments:

Archana said...

वाह!!!,कितना समझदार है जादूयम......

रंजन (Ranjan) said...

jay ho!!

Post a Comment