जादू की पुड़‍िया में आपका स्‍वागत है। चूंकि यहां जादू के बारे में ख़बरें 'कभी-भी' और 'कितनी भी' आ सकती हैं। और हो सकता है कि आप बार-बार ब्‍लॉग पर ना आ सकें। ऐसे में जादू की ख़बरें हासिल करने के लिए ई-मेल सदस्‍यता की मदद लें। ताकि 'बुलेटिन' मेल-बॉक्‍स पर ही आप तक पहुंच सके।

Sunday, August 7, 2011

बारिश निन्‍नी करो

बारिश आ रही है। rain

जादू सोने गया है।

अचानक बोल रहा है--बाडिश आ रही है।

जवाब हैं—हां।

जादू बारिश से--'बाडिश नईं आओ। चुप। बाडिश तलो निन्‍नी करो। 'बाडिशे शो जाना घप्‍पे (घर पे)

बाय शी-यू।

2 comments:

Anonymous said...

good nightjadoo- noopur

Archana said...

oh...to jadoo se chhupkar badish mere yaha aa gai hai ...??? abhi sulati hu chupchap...........

Post a Comment