जादू की पुड़‍िया में आपका स्‍वागत है। चूंकि यहां जादू के बारे में ख़बरें 'कभी-भी' और 'कितनी भी' आ सकती हैं। और हो सकता है कि आप बार-बार ब्‍लॉग पर ना आ सकें। ऐसे में जादू की ख़बरें हासिल करने के लिए ई-मेल सदस्‍यता की मदद लें। ताकि 'बुलेटिन' मेल-बॉक्‍स पर ही आप तक पहुंच सके।

Wednesday, November 9, 2011

पेट्रोल नहीं फ्रूटी भरवाईये

जादू पापा के साथ जा रहा था। मम्‍मा कुछ ख़रीद रही थीं। पापा ने कहा, हम अभी आते हैं। Frooti-Pet-250-ml
जादू-- पापा जादू कहां जा रहा है। 
पापा--पेट्रोल भरवाने।

जादू--पेट्रोल नहीं भरवाईये। फ्रीटी भरवाईये।

पापा--पर गाड़ी में तो पेट्रोल भरा जाता है।

जादू--प्‍यास लगी है। जादू को फ्रीटी भरवाईये।

पापा को समझ में आ गया कि जादू समझ रहा है कि गाड़ी पेट्रोल से चलती है और जादू फ्रीटी से।

लेकिन सच ये है कि जादू को फ्रीटी कई महीनों बाद एकाध बार मिलता है। वो भी एक-दो घूंट। पर जादू ऐसा कोई मौक़ा नहीं छोड़ता।
-------------------------------------------------------------------------

पापा जादू को लेने स्‍कूल गये।

एक नन्‍हीं बच्‍ची स्‍कूल से अपनी मम्‍मा के साथ घर जा रही थी।

पापा (जादू से) -- बेटा ये कौन है।
जादू--ये मुनमई है (मृण्‍मयी)
पापा--एक्‍स्‍क्‍यूज़ मी। क्‍या आपकी बेटी का नाम मृण्‍मयी है
मृण्‍मयी की मम्‍मा--अरे वाह। इसे तो इतना टफ़ नाम भी याद रह गया।

------------------------------------------------------------------------------

कल पापा कहीं गये थे। मम्‍मा बहुत थक गयी थी। लेकिन जादू से कह दिया था कि पार्क में चलते हैं। फिर मन नहीं कर रहा था।

मम्‍मा (जादू से) --बेटा कल पार्क में चलेंगे। आज रहने दो।

जादू--मम्‍मा जादू का दिल मत तोड़ो। पार्क में चलो। मम्‍मा बच्‍चे का दिल मत तोड़ो।

 

 

सवाल--जादू ने ये जुमला कहां से सीखा होगा।

-------------------------------------------------------------------------------


पापा आज दफ्तर से लौटे तो जादू बोला--'जादू को बोट देखनी है'

फिर क्‍या था। पापा जादू को गोराई खाड़ी लेकर गए।

और बोट दिखाई। शुक्र है कि जादू मान गया। वरना गोराई बीच जाना पड़ता।

 

----------------------------------------------------------------------------------

3 comments:

Manish said...

जादू की जादूगरी गजब की है. अपनी उम्र के मद्देनजर अगर कमेंट करे तो शायद मुँह से यही निकले - "अरे जादू तो अभी से नाम याद रखने लगा." :)

Kalpana said...

वाह जादू की करामातें और उसकी मीठी-मीठी, प्यारी-प्यारी बातें तो सचमुच गुदगुदा जाती हैं और खिलखिलाने पर मजबूर कर देती हैं....:)

सतीश कुमार चौहान said...

वाह करामाती जादूगर

Post a Comment