जादू की पुड़‍िया में आपका स्‍वागत है। चूंकि यहां जादू के बारे में ख़बरें 'कभी-भी' और 'कितनी भी' आ सकती हैं। और हो सकता है कि आप बार-बार ब्‍लॉग पर ना आ सकें। ऐसे में जादू की ख़बरें हासिल करने के लिए ई-मेल सदस्‍यता की मदद लें। ताकि 'बुलेटिन' मेल-बॉक्‍स पर ही आप तक पहुंच सके।

Wednesday, May 9, 2012

चंदामामा को फोन लगाईये, जादू बात करेगा

जादू ने पापा के कई नाम रखे हैं।

जब बहुत प्‍यार आता है जादू पापा को 'पापे' कहते हैं।

जब टॉफी चाहिए या बाहर घूमने जाना है या फिर

अपने मन का कोई काम करवाना है
तो जादू आकर कहते हैं --'पापे आप बहुत अच्छे हो'।
आज पापा को बिज़ी देखकर जादू अपना ध्‍यान खींचने के लिए कह रहे हैं--'पापू पापा, आप कैसे हो'। इसी तरह मम्‍मी को पुकारने का नया तरीक़ा है--'मम्‍मा-मम्‍मी'

जादू पापा के पास आकर कह रहे हैं,
पापा मेरे ब्‍लॉग पर ये भी लिख देना। ठीक है पापा।
moon dark glasses

 



बुद्ध पूर्णिमा के दिन पापा-मम्‍मा जादू को 'मून' दिखाने ले गये।

जादूजी ने मून को देखकर गाने गाए--'चंदा मामा दूर के'। 'चंदा है तू'।

'चंदा मामा आरे आवा पारे आवा'। 'चंदा मामा सो गए सूरज चाचू जागे'।

फिर जिद पकड़ ली, मम्‍मा चंदामामा को फोन लगाईये, जादू को बात करनी है।

मम्‍मा परेशान, चंदामामा को कैसे फोन लगायें, कैसे बात करायें।
किसी तरह जादू को मनाया गया।

........................................................................................

10 comments:

PD said...

आजकल मेरा भतीजा भी मुझे "छोटे पाप्पे" बुला रहा है. ;-)

शिवम् मिश्रा said...

क्या बात है ... बच्चो की अदाएं ही तो हम सब को उनका दीवाना बना देती है !

जादू को बहुत बहुत हार्दिक स्नेहाशिश !

Archana said...

Uff mamma ko pareshaan kyo hona tha....phone to lagaya hota ...Jaadu ke to mama bhi diwane honge baat kar hi lete apne jadoo se......

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

:):) बात हुई क्या ?

"डॉक्टर मामा" said...

अरे भैया,चन्दामामा नहीं तो ये मामा तो थे ।
हमीं को मिला देते फ़ोन ।
वैसे "चन्दामामा" बन कर भी बतिया लेते हम फ़ोन पर,
लेकिन (जादू के आगे) इतना दिमाग चलता कहाँ है जादू के मम्मी-पापा का !
:-))

शिवम् मिश्रा said...

इस पोस्ट के लिए आपका बहुत बहुत आभार - आपकी पोस्ट को शामिल किया गया है 'ब्लॉग बुलेटिन' पर - पधारें - और डालें एक नज़र - अजीब या रोचक - ब्लॉग बुलेटिन

pratiksha sharma said...

आज ही देखी जादू की दुनिया , बहुत रोचक और स्वाभिक है | जादू की बातें पढ़कर मुझे अपना और अपने बच्चों का बचपन याद आगया | बहुत प्यारा है "जादू "

mohini moghe said...

Thanx Jadoo tumne bachpan yad dila diya. Choti thi taab mai bhi apani baat manvane ke liye papa ko pitaji, pitashri, taat, baba, abba,abbu, appa,bappaji aur na jaane kitne sambodhanose bulati thi.Aakhir me Bapu kahane par ve haskar maan jate the.

mohini moghe said...

Thanx Jadoo tumne muze bachpan ki yaad dilya. Apni baat manvane ke liye mai apne papa ko daddyji, baba, pitashri, pitaji, taat,appa, abba aur na jane kitne namo se pukarti thi. Ve bade strict (Army officer jo the)the. Akhir me haath jod kar
mai unhe Bapu kahati aur ve has kar man jate. Taab chand se baat karne ka idea dimag me aya hi nahi.

mohini moghe said...

Bade din ho gaye Jadoo ne apana pitata khola nahi. intajaar me hai.

Post a Comment