जादू की पुड़‍िया में आपका स्‍वागत है। चूंकि यहां जादू के बारे में ख़बरें 'कभी-भी' और 'कितनी भी' आ सकती हैं। और हो सकता है कि आप बार-बार ब्‍लॉग पर ना आ सकें। ऐसे में जादू की ख़बरें हासिल करने के लिए ई-मेल सदस्‍यता की मदद लें। ताकि 'बुलेटिन' मेल-बॉक्‍स पर ही आप तक पहुंच सके।

Tuesday, April 5, 2011

मम्‍मा फिर से थॉली

आज जादू ने मम्‍मा को इतना सताया कि
उनकी आंखें भर आईं।

परेशान मम्‍मा बोली--

जादू और कितना परेशान करोगे।

जादू मासूमियत से दोनों कान पकड़कर बोला--

मम्‍मा थॉली।

मम्‍मा का ग़ुस्‍सा फुर्र हो गया।

1 comments:

Archana said...

सचमुच जादू की पुडिया.........

Post a Comment