जादू की पुड़‍िया में आपका स्‍वागत है। चूंकि यहां जादू के बारे में ख़बरें 'कभी-भी' और 'कितनी भी' आ सकती हैं। और हो सकता है कि आप बार-बार ब्‍लॉग पर ना आ सकें। ऐसे में जादू की ख़बरें हासिल करने के लिए ई-मेल सदस्‍यता की मदद लें। ताकि 'बुलेटिन' मेल-बॉक्‍स पर ही आप तक पहुंच सके।

Tuesday, April 5, 2011

घर मत चलो

जब भी पापा मम्‍मा को 'पिक-अप' करने ऑफिस जाते हैं,

और जादू साथ होता है

तो सीधे घर आना मुमकिन नहीं।

क्‍योंकि गाड़ी जैसे ही ऑफिस से लेफ्ट मुड़ती है

जादू उछलने लगते हैं

और कहते हैं इस तरफ़ नहीं, उस तरफ़ चलो।

अकसर जॉगर्स पार्क या बाज़ार या पेप्‍सी ग्राउंड जैसी जगहों पर

'हाजि़री' बजाकर ही घर लौटा जा सकता है।

1 comments:

Archana said...

समझदार जो है------ जादू.........

Post a Comment